राष्ट्रपति ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय में न्याय ग्राम की आधारशिला रखी

भारत के राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने 16 दिसम्बर 2017 को इलाहाबाद उच्च न्यायालय में न्याय ग्राम की आधारशिला रखी। उन्होंने निर्मित हो रहे न्याय ग्राम को समयबद्धता के साथ सम्पन्न होने की शुभकामना देते हुए यह आशा की कि उच्च न्यायालय से जुड़े लोग इस न्यायालय के गौरव को निरन्तर बढ़ाते रहेंगे। उन्होंने न्यायालय से जुड़े महामना मदनमोहन मालवीय, मोतीलाल नेहरू, सर तेज बहादुर सप्रू और राजर्षि पुरुषोतम के व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने मेरठ एवं चैरी-चैरा का जिक्र करते हुए न्यायालय की स्वतंत्रता के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय में ही सन् 1921 में भारत की प्रथम महिला वकील का पंजीकरण करने का ऐतिहासिक फैसला लिया गया था। राष्ट्रपति जी ने कहा कि न्यायपालिका की स्वतंत्रता हमारी लोकतंत्र की आधारशिला है। 

1 comment: